Uncategorized

उन्नाव-कठुआ पर बोले केन्द्रीय मंत्री

Sharing is caring!

ਆਹ ਦੇਖ ਲੋ ਇਸ ਦੇਸ਼ ਦੇ ਮੰਤਰੀ ਕਹਿੰਦਾ ਐਡੇ ਵੱਡੇ ਦੇਸ਼ ਚ ਦੋ ਚਾਰ ਬਲਾਤਕਾਰ ਕੋਈ ਵੱਡੀ ਗੱਲ ਨੀ,उन्नाव-कठुआ पर बोले केन्द्रीय मंत्री-इतने बड़े देश में 1-2 रेप हो जाएं तो बतंगड़ नहीं बनाना चाहिए,देश में इस समय जहां आए दिन छोटी-छोटी बच्चियों के साथ बलात्कार की घटनाएं सामने आ रही हैं वहीं मोदी सरकार में केंद्रीय श्रम एवंरोजगार मंत्री संतोष गंगवार ने एक बेतुका बयान दिया है। मंत्री का कहना है कि इतने बड़े देश में एक दो घटनाएं हो जाए तो बात का बतंगड़ नहीं बनाना चाहिए। उन्होंने यह बयान ऐसे समय पर दिया है जब कठुआ और सूरत में बच्चियों से दरिंदगी पर देश में गुस्से के बीच केंद्र सरकार ने शनिवार को इस संबंध में अध्यादेश को मंजूरी दे दीराष्ट्रपति से मंजूरी मिलते ही यह कानून अमल में आ जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली केबिनेट ने पॉक्सो एक्ट में बदलाव से जुड़े आपराधिक कानून संशोधन अध्यादेश, 2018 को मंजूरी दी। अब तक 12 साल से कम उम्र की बच्चियों से रेप के मामले में अधिकतम सजा उम्रकैद थी।गंगवार ने कहा कि ऐसी घटनाएं (रेप मामले) दुर्भाग्यपूर्ण होती हैं पर कभी-कभी इन्हें रोका नहीं जा सकता है

f

सरकार सक्रिय है सब जगह कार्रवाई कर रही है। इतने बड़े देश में एक-दो घटनाएं हो जाए तो बात का बतंगड़ नहीं बनाना चाहिए। बता दें कि बच्चियों से रेप मामले का विरोध केवल देश में ही नहीं बल्कि विदेशों तक पहुंच चुका है। इसी कड़ी में पूरी दुनिया के 600 से ज्यादा बुद्धिजीवियों, शिक्षकों, छात्रों और शोधार्थियों ने इस मामले की गंभीरता कोदेखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ओपन लेटर लिखा है। जिसमें कठुआ और उन्नाव रेप मामलों पर अपना दुख जताया है और केंद्र सरकार को इस जघन्य अपराध के लिए जिम्मेदार ठहराया गया है।लेटर पर हस्ताक्षर करने वालों में से अधिकतर भारतीय मूल के हैं। इस लेटर में पीएम के लिए कहा गया है कि ‘हमने देखा है कि देश में बने गंभीर हालात पर और सत्तारूढ़ों में हिंसा से जुड़ाव के निर्विवाद संबंधों को लेकर आपने लंबी चुप्पी साध रखी है।’

You Might Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>